18वें एशियाई खेलों का समापन, उनहत्‍तर पदकों के साथ भारत का अब तक का सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन

इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग में हुए इन खेलों का समापन आज से हो रहा है। भारतीय समयानुसार शाम साढ़े पांच बजे से यह समारोह शुरू होगा। महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल समापन समारोह में भारतीय दल की ध्वजवाहक होंगी। रानी की कप्तानी में भारतीय टीम ने 20 साल बाद रजत पदक जीता है। इन खेलों के उद्घाटन समारोह के लिए भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा को ध्वजवाहक चुना गया था जिन्होंने इन खेलों में स्वर्ण पदक जीता है।

18 अगस्त से शुरू हुई इस प्रतियोगिता में 40 खेलों की 465 स्पर्धाओं में मेजबान इंडोनेशिया सहित 45 देशों ने हिस्‍सा लिया। भारतीय खिलाडि़यों ने पिछले 67 वर्षों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। भारत 15 स्वर्ण, 24 रजत और 30 कांस्य सहित कुल 69 पदक जीतकर पदक तालिका में आठवें स्थान पर रहा। भारतीय खिलाडि़यों ने इन खेलों में कई नए अध्‍याय भी लिखे तो कुछ खेलों में हमारी उम्‍मीदें भी टूटी, लेकिन इसके बावजूद हमारे खिलाडि़यों ने इंडो‍नेशिया में दिखा दिया है कि 2020 में तोक्‍यो ओलिंपिक में भारत एक नए रूप में दिखेगा। भारत के लिए सबसे ज्यादा पदक एथलेटिक्स में आए हैं, जबकि निशानेबाजी दूसरे स्‍थान पर है। भारत ने प्रतियोगिताओं के अपने आखिरी दिन भी स्वर्णिम अभियान जारी रखा और मुक्‍केबाजी तथा ब्रिज में दो स्‍वर्ण पदक हासिल किए।

इन खेलों में चीन कुल 289 पदक के साथ शीर्ष पर, जापान 205 पदक लेकर दूसरे स्थान और कोरिया रिपब्लिक 177 मेडल्‍स के साथ तीसरे स्थान पर रहा।

Related posts