न्‍यूज़ीलैंड में क्राइस्‍ट चर्च में दो मस्जिदों में गोलीबारी की घटना में 49 लोग मारे गये और 20 गम्‍भीर रूप से घायल

न्‍यूजीलैंड के क्राइस्‍टचर्च में दो मस्जिदों में गोलीबारी की घटना में 49 लोग मारे गए हैं और बीस लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। मस्जिदों में जुम्‍मे की नमाज के लिए कई लोग एकत्र हुए थे। न्‍यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डन ने मृतकों की संख्‍या की पुष्टि की है और गोलीबारी की इस घटना को देश के इतिहास में काला दिवस कहा है। गोलीबारी की निंदा करते हुए उन्‍होंने कहा कि न्‍यूजीलैंड में इस तरह की हिंसा की कोई जगह नहीं है।

ऑस्‍ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्‍कॉट मॉरिसन ने कहा है कि न्‍यूजीलैंड में गोलीबारी के लिए जिम्‍मेदार बंदूकधारी, ऑस्‍ट्रेलियाई मूल का नागरिक था। संवाददाता सम्‍मेलन में उन्‍होंने हमलावर को ‘उग्रवादी, दक्षिणपंथी और हिंसक आतंकवादी’ करार दिया है।
न्‍यूजीलैंड पुलिस ने घटना के सिलसिले में चार लोगों को हिरासत में लिया है और बरामद हुए कई विस्‍फोटक उपकरण निष्‍क्रिय कर दिए हैं।

क्राइस्‍टचर्च में घेराबंदी कर दी गई है और पुलिस गोली चलाने वाले व्‍यक्ति की तलाश कर रही है। पुलिस ने कहा है कि शहर में काफी खतरा बना हुआ है लेकिन पूरी मुस्‍तैदी के साथ स्थिति से निपटा जा रहा है। अभी यह स्‍पष्‍ट नहीं है कि गोलीबारी में कितने लोग शामिल थे।

न्‍यूजीलैंड में भारतीय उच्‍चायुक्‍त ने क्राइस्‍टचर्च में गोलीबारी की घटना पर दु:ख व्‍यक्‍त किया है। वहां रह रहे भारतीय किसी तरह की सहायता के लिए उच्‍चायुक्‍त से इन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं- 0 2 1 8 0 3 8 9 9 और 0 2 1 8 5 0 0 3 3
इस बीच, न्‍यूजीलैंड गई बांग्‍लादेश क्रिकेट टीम का दौरा रद्द कर दिया गया है। खबर है कि बांग्‍लादेश के क्रिकेट खिलाड़ी मस्जिद पहुंच रहे थे तभी यह गोलीबारी शुरू हुई। बांग्‍लादेश की टीम फिलहाल होटल में हैं।

विश्‍वभर के राजनीतिक नेताओं ने न्‍यूजीलैंड में गोलीबारी घटना की निंदा की है।

इंडोनेशिया के विदेश मंत्री रेतनो मरसूदी ने कहा है कि किसी पूजास्‍थल पर इस तरह की घटना निंदनीय है।

मलेशिया में सत्‍तारूढ़ गठबंधन में सबसे बड़ी पार्टी के नेता अनवर इब्राहिम ने इस घटना को मानवता और वैश्विक शांति के लिए बड़ी त्रासदी बताया है।

तुर्की के राष्‍ट्रपति रसेप तैय्यप एर्दोआन के प्रवक्‍ता ने भी हमले की कड़ी निंदा की है।

ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड और फीजी के लिए अफगानिस्‍तान के दूत वहीदुल्‍ला वैसी ने भी इस घटना को जघन्‍य बताया है।
संयुक्‍त अरब अमारात ने भी इस हमले की घोर निंदा की हैं।

Related posts

Leave a Comment