सीएजी रिपोर्ट के अनुसार एनडीए सरकार ने रफाल विमान सौदा यूपीए सरकार की तुलना में 2.86% कम कीमत पर किया

According to the CAG report, the NDA government did the Rampal aircraft deal at 2.86% lower than the UPA government

नियंत्रक और महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट में कहा गया है कि एन डी ए सरकार ने यू पी ए सरकार के सौदे की तुलना में दो दशमलव आठ छह प्रतिशत कम कीमत पर फ्रांस से रफाल लड़ाकू विमान खरीदने का सौदा किया। आज संसद के दोनों सदनों में पेश रिपोर्ट में कहा गया है कि 2015 में 36 विमानों की खरीद की बातचीत के दौरान वायुसेना उप प्रमुख के नेतृत्‍व में भारतीय वार्ता दल- आई एन टी ने रफाल विमानों की संख्‍या कम करने का प्रस्‍ताव रखा। कांग्रेस के नेतृत्‍व वाली सरकार ने 126 विमानों का जो सौदा किया था उसकी तुलना में नये अनुबंध के अंतर्गत भारत ने 17 दशमलव शून्‍य-आठ प्रतिशत धन की बचत की है।

केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली ने कहा है कि रफाल के बारे में सीएजी की रिपोर्ट से कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों के झूठ का पर्दाफाश हो गया है।

यह बिलकुल स्‍पष्‍ट हो गया, जो प्रतिदिन एक झूठ बोला जाता है, झूठ बोलने वालों का सर पूरे देश के सामने शर्म से झुक जाना चाहियें। हर ट्रांजैक्‍शन में एयरफोर्स ने सरकार के मंत्रालय के अधिकारी बैठते हैं। बडी कमेटी होती है। यह आवश्‍यक नहीं कि अगर दस लोग बैठते हैं तो दस में हर एक का एक ही मत होगा। लेकिन अंतिम निर्णय जो सरकार का होता है वो एक होता है। अगर हर व्‍यक्ति हां में हां मिला ले तो तब तो इसका मतलब कि एप्‍लीकेशन ऑफ माइंड ही नहीं होगा।

इससे पहले, उन्‍होंने ट्वीटर पर कहा था कि ऐसा नहीं हो सकता कि उच्‍चतम न्‍यायालय गलत है, सीएजी गलत है और केवल परिवार ही सही है।

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि सरकार ने सिर्फ एक उद्योगपति को फायदा पहुंचाने के उद्देश्‍य से लड़ाकू विमान रफाल का नए सिरे से सौदा किया था। कांग्रेस अध्‍यक्ष ने आज नई दिल्‍ली में संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि सरकार केवल बेहतर कीमत और जल्‍दी आपूर्ति का हवाला देकर इस सौदे का बचाव कर रही है। उन्‍होंने कहा कि वे प्रधानमंत्री से इस मुद्दे पर किसी भी समय बहस करने को तैयार हैं।

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने रफाल सौदे की जांच संयुक्‍त संसदीय समिति से कराए जाने की मांग फिर दोहराई।

Related posts

Leave a Comment