अमेरिका: ‘फ्लोरेंस’ तूफान से कम से कम 4 की मौत

florance-cyclon

चक्रवाती तूफान फ्लोरेंस के अमेरिका के उत्तरी कैरोलाइना पहुंचने के बाद भारी बारिश के साथ ही तेज हवाएं चलने का सिलसिला जारी है। अब तक कम से कम 4 लोगों के मारे जाने की ख़बर मिली है। इस तूफान को कैटेगरी 4 में रखा गया था लेकिन अब यह कुछ हल्‍का हो गया है। नेशनल हरिकेन सेंटर के अनुसार तूफान फ्लोरेंस की तीव्रता कम होकर श्रेणी-2 की हो गई है। हालांकि यह अभी भी खतरनाक और अप्रत्याशित बना हुआ है।

तूफान फ्लोरेंस अमेरिका के पूर्वी तट पर पहुंच गया है। गुरुवार शाम इसके टकराते ही पूरे राज्‍य में भारी बारिश के अलावा तेज हवाओं का सिलसिला जारी है। कई पेड़ गिर गए हैं और आसपास तबाही का मंजर देखा जा सकता है। इस तूफान की वजह से 158,000 से ज्‍यादा घरों और ऑफिसेज की बिजली ठप होने की कगार पर है। इस तूफान को कैटेगरी 4 में रखा गया था लेकिन अब यह कुछ हल्‍का हो गया है। नेशनल हरिकेन सेंटर का कहना है कि तूफान फ्लोरेंस की तीव्रता कम होकर कैटेगरी-2 के तूफान की हो गई है। हालांकि यह अभी भी खतरनाक और अप्रत्याशित बना हुआ है।

मौसम विभाग का अनुमान है कि फ्लोरेंस का असली असर शुक्रवार को स्थानीय समय के हिसाब से सुबह आठ बजे के आसपास दिखना शुरू होगा. इन इलाकों में करीब एक हज़ार से ज़्यादा उड़ानों को रद्द कर दिया गया है. तटीय इलाकों के अधिकतर हवाई अड्डों को बंद कर दिया गया है। माना जा रहा है कि यह जैसे अमेरिका के जमीनी इलाकों में बढ़ेगा भूस्खलन जैसी घटनाएं बढ़ जाएंगी। करीब 10 लाख लोगों को खराब स्थितियों के चलते सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है।  हालांकि, तूफान के शनिवार तक कमजोर पड़ने के आसार हैं।

वहीं अगले सप्ताह टेनसी, जॉर्जा, वेस्ट वर्जिनिया, ओहायो, पेंसिलवेनिया, मेरीलैंड और डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया के कुछ हिस्सों में भारी बारिश होने और बाढ़ आने की आशंका है।  तूफान फ्लोरेंस के चलते तटीय इलाकों से 15 लाख से ज्यादा लोगों को घरों को खाली कर सुरक्षित स्थानों पर जाने को कहा गया है।

इस बीच, दुनिया के दूसरी तरफ, हांगकांग के निवासी शनिवार से आनेवेल सुपर टाइफून मांगखट के लिए तैयार हो रहे हैं। इस तूफान की रफ्तार दो सौ से ढाई सौ किलोमीटर प्रति घंटे रह सकती है।  मौसम वैज्ञानिकों ने इस शक्तशाली तूफान की भविष्यवाणी की है बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है, साथ ही तटीय इलाकों में समुद्री जल का बैकफ्लो पैदा हालात को और गंभीर बना सकता है।

Related posts