केन्द्र ने व्यापारियों/थोक, खुदरा विक्रेताओं, बड़ी श्रृंखला के खुदरा विक्रेताओं, प्रोसेसर्स/मिलर्स के लिए चावल/धान के स्टॉक की जानकारी देना अनिवार्य किया

समग्र खाद्य मुद्रास्फीति को प्रबंधित करने और अनुचित अटकलों को रोकने के लिए, सरकार ने निर्णय लिया है कि सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में व्यापारी/थोक, खुदरा विक्रेता, बड़ी श्रृंखला के खुदरा विक्रेता और प्रोसेसर/मिलर्स चावल/धान की स्टॉक स्थिति अगले आदेश तक घोषित करें। संबंधित कानूनी संस्थाओं यानी व्यापारियों/थोक विक्रेताओं, खुदरा विक्रेताओं, बड़ी श्रृंखला के खुदरा विक्रेताओं, प्रोसेसरों/मिलर्स को (i) टूटे चावल, (ii) गैर-बासमती सफेद चावल, (iii) उबला चावल, (iv) बासमती चावल, (v) धान जैसी श्रेणियों में धान और चावल की स्टॉक स्थिति घोषित करनी होगी। संस्थाओं से अपेक्षा की जाती है कि वे इसे हर शुक्रवार को खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग के पोर्टल (https://evegoils.nic.in/rice/login.html) पर अपडेट करें। आदेश जारी होने के 7 दिनों के भीतर इन संस्थाओं द्वारा चावल की स्टॉक स्थिति घोषित की जाएगी।

इसके अलावा, खाद्य अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति के रुझान को रोकने के लिए, आम उपभोक्ताओं के लिए ‘भारत चावल’ की खुदरा बिक्री शुरू करने का निर्णय लिया गया है। पहले चरण में, 3 एजेंसियों अर्थात नैफेड, एनसीसीएफ और केंद्रीय भंडार के माध्यम से ‘भारत चावल’ ब्रांड के अंतर्गत खुदरा बिक्री के लिए 5 लाख मीट्रिक टन चावल आवंटित किया गया है। आम उपभोक्ताओं के लिए भारत चावल की बिक्री का खुदरा मूल्य 29 रु. प्रति किग्रा. होगा जिसे 5 किलोग्राम और 10 किलोग्राम के बैग में बेचा जाएगा। भारत चावल शुरुआत में खरीद के लिए मोबाइल वैनों और तीन केन्‍द्रीय सहकारी एजेंसियों की दुकानों से खरीदने के लिए उपलब्ध होगा, और यह बहुत जल्द ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म सहित अन्य खुदरा श्रृंखलाओं के माध्यम से भी उपलब्ध होगा।

इस ख़रीफ़ में अच्छी फसल, एफसीआई के पास और पाइपलाइन में चावल का पर्याप्त स्टॉक तथा निर्यात पर विभिन्न नियमों के बावजूद चावल की घरेलू कीमतें बढ़ रही हैं। पिछले वर्ष खुदरा कीमतों में 14.51 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। चावल की कीमतों पर अंकुश लगाने के प्रयास में सरकार की ओर से पहले ही कई कदम उठाए जा चुके हैं।

एफसीआई के पास अच्छी गुणवत्ता वाले चावल का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध है जिसे व्यापारियों/थोक विक्रेताओं को ओएमएसएस के तहत 29 रुपये प्रति किग्रा. के आरक्षित मूल्य पर दिया जा रहा है। खुले बाजार में चावल की बिक्री बढ़ाने के लिए, सरकार ने चावल का आरक्षित मूल्य 3100 रुपये क्विंटल से कम करके 2900 रुपये क्विंटल कर दिया और चावल की न्यूनतम और अधिकतम मात्रा को क्रमशः 1 मीट्रिक टन और 2000 मीट्रिक टन तक संशोधित किया गया। इसके अलावा, व्यापक पहुंच के लिए एफसीआई क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा नियमित प्रचार किया गया है। परिणामस्वरूप, चावल की बिक्री धीरे-धीरे बढ़ गई है। 31.01.2024 तक, 1.66 एलएमटी चावल खुले बाजार में बेचा जा चुका है, जो ओएमएसएस (डी) के तहत किसी भी वर्ष में चावल की सबसे अधिक बिक्री है।

टूटे हुए चावल की निर्यात नीति को दिनांक 01.12.2017 से “मुक्त” से “निषिद्ध” में संशोधित किया गया है। 9 सितंबर, 2022। गैर-बासमती चावल के संबंध में, जो कुल चावल निर्यात का लगभग 25प्रतिशत है, 20प्रतिशत का निर्यात शुल्क लगाया गया है। 8 सितंबर, 2022 चावल की कीमतें कम करने के लिए। इसके बाद, गैर-बासमती सफेद चावल की निर्यात नीति को 20 जुलाई 2023 से संशोधित कर ‘निषिद्ध’ कर दिया गया। बासमती चावल में, केवल 950 अमेरिकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन और उससे अधिक मूल्य के बासमती निर्यात के अनुबंध जारी करने के लिए पंजीकृत किए जा रहे हैं। पंजीकरण-सह-आवंटन प्रमाणपत्र (आरसीएसी)। उबले चावल पर 20 प्रतिशत निर्यात शुल्क लगाया गया है जो 31 मार्च, 2024 तक लागू रहेगा। इन सभी उपायों ने घरेलू बाजार में चावल की कीमतों में वृद्धि की गति पर अंकुश लगाया है।

खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग भी कीमतों को नियंत्रित करने और देश में आसान उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए गेहूं के स्टॉक की स्थिति पर कड़ी नजर रख रहा है। गेहूं की अखिल भारतीय औसत घरेलू थोक और खुदरा कीमत में एक महीने और साल के दौरान गिरावट का रुझान दिख रहा है। अखिल भारतीय औसत घरेलू थोक और खुदरा खंड में आटे (गेहूं) की कीमतों में भी सप्ताह, महीने और साल के दौरान गिरावट का रुझान दिख रहा है।

खुले बाजार में गेहूं की उपलब्धता बढ़ाने और गेहूं की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए, सरकार 28.06.2023 से साप्ताहिक ई-नीलामी के माध्यम से गेहूं को बाजार में उतार रही है। सरकार ने खुले बाजार बिक्री योजना (घरेलू) [ओएमएसएस (डी)] के तहत एफएक्यू के लिए 2150 रुपये क्विंटल और यूआरएस के लिए 2125 रुपये क्विंटल के आरक्षित मूल्य पर उतारने के लिए कुल 101.5 एलएमटी गेहूं आवंटित किया गया है। गेहूं की उपलब्धता बढ़ाने और खुले बाजार में गेहूं की मांग को पूरा करने के लिए, ई-नीलामी में गेहूं की साप्ताहिक पेशकश को धीरे-धीरे शुरुआती 2 एलएमटी से बढ़ाकर वर्तमान साप्ताहिक पेशकश 4.5 एलएमटी तक किया जा रहा है। 31.01.2024 तक ओएमएसएस(डी) के तहत 75.26 एलएमटी गेहूं बेचा जा चुका है। अब साप्ताहिक नीलामियों में ओएमएसएस के तहत पेश किए जाने वाले गेहूं की मात्रा को 5 एलएमटी तक बढ़ाने और उत्‍पादन की कुल मात्रा को 400 मीट्रिक टन तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

पेराई सत्र शुरू होने के बाद चीनी की एक्स-मिल कीमतों में 3.5-4 प्रतिशत की कमी आई है और चीनी की अखिल भारतीय खुदरा और थोक कीमतें स्थिर हैं। चीनी मौसम 2022-23 में 99.9 प्रतिशत से अधिक गन्ना बकाया का भुगतान किया जा चुका है और चालू मौसम के लिए अब तक 80 प्रतिशत गन्ना बकाया का भुगतान किया जा चुका है।

भारत सरकार खाद्य तेलों की घरेलू खुदरा कीमतों पर भी बारीकी से नजर रख रही है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि अंतरराष्ट्रीय कीमतों में कमी का पूरा लाभ अंतिम उपभोक्ताओं को मिले। सरकार ने घरेलू बाजार में खाद्य तेलों की कीमतों को नियंत्रित और कम करने के लिए निम्नलिखित उपाय किए हैं: –

  • कच्चे पाम तेल, कच्चे सोयाबीन तेल और कच्चे सूरजमुखी तेल पर मूल शुल्क 2.5 प्रतिशत  से घटाकर शून्य कर दिया गया। इसके अलावा, इन तेलों पर कृषि-उपकर 20 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया। इस शुल्क संरचना को 31 मार्च, 2025 तक बढ़ा दिया गया है।
  • रिफाइंड सोयाबीन तेल, रिफाइंड सूरजमुखी तेल और रिफाइंड पाम तेल पर मूल शुल्क घटाकर 12.5 प्रतिशत कर दिया गया है। इस ड्यूटी को 31 मार्च 2025 तक बढ़ा दिया गया है।

कच्चे सोयाबीन तेल, कच्चे सूरजमुखी तेल, कच्चे पाम तेल और रिफाइंड पाम तेल जैसे प्रमुख खाद्य तेलों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में पिछले साल से गिरावट का रुख देखा जा रहा है। यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा किए गए निरंतर प्रयासों के कारण खाद्य तेलों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में कमी का पूरा लाभ घरेलू बाजार में मिले, सरसों तेल, सोयाबीन तेल, सूरजमुखी तेल और आरबीडी पामोलीन की खुदरा कीमतों में एक वर्ष में 01 फरवरी 2024 को क्रमश: 18.32 प्रतिशत, 17.07 प्रतिशत, 23.81 प्रतिशत और 12.01 प्रतिशत की कमी आई है। सरकार के सक्रिय कदमों के कारण देश में खाद्य तेलों की कीमतें दो साल के निचले स्तर पर हैं।

उपरोक्त उपायों से देश में आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि की गति को धीमा करने में मदद मिली है। खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग देश में आवश्यक वस्तुओं की कीमतों पर बारीकी से निगरानी और समीक्षा करता है और जब भी आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनने वाली इन वस्तुओं की सामर्थ्य सुनिश्चित करने के लिए किसी हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है तो कदम उठाता है।