उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड जारी, कई स्थानों पर तापमान शून्य डिग्री के आस-पास

Cold wave in north India

उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड जारी है। कई स्थानों पर तापमान शून्य डिग्री के आस-पास है। उत्‍तर प्रदेश में रैन बसेरों के औचक निरीक्षण किए जा रहे हैं ताकि ठंड से लोगों को बचाया जा सके। ब्‍यौरा हमारे संवाददाता से-

कल रात गोरखपुर में रेलवे स्‍टेशन और मेडिकल कॉलेज के रैन बसेरों के औचक निरीक्षण के दौरान मुख्‍यमंत्री ने वहां मौजूद लोगों से इन स्‍थानों पर मिल रही सुविधाओं की गुणवत्‍ता के बारे में जानकारी ली। उन्‍होंने भरोसा दिलाया कि इस कड़ाके की सर्दी में सरकार उनका हरसंभव ख्‍याल रखेगी। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए गये हैं कि मौजूदा रैन बसेरों में सभी सुविधाएं देने के साथ ही अस्‍थाई रैनबसेरों का भी इंतजाम किया जाए ताकि किसी को खुले में न सोना पड़े। इस बीच घने कोहरे की वजह से रेलवे ने प्रदेश से गुजरने वाली 11 और ट्रेनों को रद्द कर दिया है। दो अन्‍य ट्रेनों को आंशिक रूप से रद्द किया गया है, जबकि छह ट्रेनों के फेरों में कमी की गई है।

बिहार में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। हमारे संवाददाता ने बताया है कि ठंड की वजह से कई ज़िलों में अलर्ट जारी किया गया है।
पटना समेत राज्‍य के कई शहर ठंड की चपेट में हैं। चार दशमलव छह डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ गया राज्‍य का सबसे ठंडा स्‍थान रहा। ठंड को देखते हुए मौसम विभाग ने औरंगाबाद, कैमूर और रोहतास में अलर्ट जारी किया है। घने कोहरे के कारण पटना से गुजरने वाली चार जोड़ी ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। कुहासे की वजह से राजधानी एक्‍सप्रेस, सम्‍पूर्ण क्रांति एक्‍सप्रेस, पूर्वा और ब्रह्मपुत्र मेल समेत दर्जनों ट्रेनें दो घंटे से लेकर दस घंटे देरी से चल रही हैं।

पंजाब के कई इलाकों में तापमान में और अधिक गिरावट के कारण पिछले दो सप्‍ताह से जारी कड़ाके की ठण्‍ड का प्रकोप और बढ़ गया है। अमृतसर और आदमपुर में तापमान शून्‍य दशमलव चार डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

जम्मू-कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में बर्फीली हवाएं चलने से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। हमारी संवाददाता ने बताया है कि इस क्षेत्र में लेह का तापमान शून्य से 17 दशमलव एक डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया।

लद्दाख में कल रात इस मौसम की सबसे ठंडी रात थी। कुछ घंटों की तेज बर्फीली हवाओं ने क्षेत्र में ठंड के प्रकोप को और बढ़ा दिया है। पारे के शून्‍य से कई डिग्री नीचे आज जाने के कारण जलाशयों में पानी जम गया है और रिहायशी इलाकों में पानी की पाइपलाइनें बाधित है। सामान्‍य जन-जीवन अस्‍त-व्‍यस्‍त हो गया है।

तमिलनाडु के त्रिची, तंजावुर और अन्‍य तटीय जिलों में आज सवेरे से घना कोहरा छाया हुआ है। कम दृश्‍यता के कारण रेल, सड़क और हवाई मार्ग प्रभावित हुए हैं।

Related posts