COVID-19: पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन का सख्‍ती से पालन करने का आह्ववान किया

PM Narendra Modi

पीएम नरेंद्र मोदी ने फिर कहा है कि कोविड-19 से निपटने का एक मात्र उपाय सोशल डिस्‍टेंसिंग यानी एक दूसरे से पर्याप्‍त दूरी बनाये रखना है। बनारस के लोगों के साथ वीडियों कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि वायरस लोगों में कोई भेद नहीं करता और किसी में भी इसका संक्रमण हो सकता है। उन्‍होंने कहा कि कुछ लोगों को इस बीमारी के बारे में जानकारी होने के बावजूद वे चेतावनियों पर ध्‍यान नहीं दे रहे हैं, जो बहुत दुर्भाग्‍यपूर्ण है।

जितनी जल्‍दी हो सके अपनी गलतफेमी से बाहर निकले, सच्‍चाई को समझे। इस बीमारी में जो बातें सामने आयीं है उसमें सबसे बड़ी सच्‍चाई यही है कि बीमारी किसी से भी भेदभाव नहीं करती। ये समृद्ध देश पर भी कहर बरपाती है और गरीब के घर पर भी कहर बरपाती है।

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि डॉक्‍टरों, एयर लाइन कर्मचारियों और आवश्‍यक सेवाओं में काम करने वाले कर्मचारियों के साथ दुर्व्‍यवहार की घटनाओं से उन्‍हें बहुत तकलीफ हुई है, क्‍योंकि यही लोग कोविड-19 से संघर्ष में अग्रिम पंक्‍ति में खड़े हैं। श्री मोदी ने कहा कि इस तरह के मामलों में दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि डॉक्‍टर और नर्स जैसे चिकित्‍साकर्मी देवदूत के समान हैं। उन्‍होंने कहा कि दूसरों की खातिर अपना जीवन दांव पर लगाने वाले चिकित्‍साकर्मियों का सम्‍मान किया जाना चाहिए। पीएम मोदी ने संकट की इस घड़ी में गरीबों को हर तरह से मदद करने का आग्रह करते हुए कहा कि उन्‍हें अगले 21 दिनों में रोजाना कम से कम नौ गरीब परिवारों को मदद करने का संकल्‍प लेना चाहिए।

ये नवरात्री का जब प्रारंभ हुआ है तब अगले 21 दिन तक प्रतिदिन नौ गरीब परिवारों की मदद करने का प्रण लें। 21 दिन तक नौ परिवारों को आप संभालें। मैं मानता हूं कि अगर इतना भी हम कर लें तो मां की इससे बड़ी आराधना क्या हो सकती है। ये सच्‍चा और पक्‍का नवरात्र हो जाएगा। इसके अलावा आपके आसपास जो पशु हैं, उनकी भी चिंता करनी है। लॉकडाउन की वजह से अनेक पशुओं के सामने, जानवरों के सामने भी भोजन का संकट आ गया है। मेरी लोगों से प्रार्थना है कि अपने आसपास के पशुओं का भी ध्‍यान रखें।

पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने ह्वाट्एप से सम्‍पर्क कर हेल्‍प डेस्‍क बनाई है, ताकि लोगों को कोरोना वायरस के बारे में भरोसेमंद सूचनाएं दी जा सकें।

कोरोना से संक्रमित दुनिया में एक लाख से अधिक लोग ठीक भी हो चुके हैं और भारत में भी दर्जनों लोग कोरोना के शिकंजे से बाहर निकले हैं। मैं आपको यह भी जानकारी देना चाहता हूं कि कोरोना से जुडी सही और सटीक जानकारी के लिए सरकार ने व्‍हाट्सप के साथ मिलकर एक हेल्‍प डेस्‍क भी बनायी है। अगर आपके पास व्‍हाट्सप की सुविधा है तो मैं एक नंबर लिखवाता हूं लिख लीजिए 9 0 1 3 1 5 1 5 1 5 आप व्‍हाट्सप करके इस सेवा से जुड सकते हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि संकट की इस घड़ी में काशी के लोग कोविड-19 के खिलाफ इस महायुद्ध का नेतृत्‍व कर सकते हैं और देशवासियों को धैर्य, करुणा और शांति का सबक सिखा सकते हैं।

महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता गया था। आज कोरोना के खिलाफ जो युद्ध पूरा देश लड रहा है उसमें 21 दिन लगने वाले हैं। हमारा प्रयास है इसे 21 दिन में जीत लिया जाए। महाभारत के युद्ध के समय भगवान श्रीकृष्‍ण महारथी थे, सारथी थे। आज 130 करोड महारथियों के बलबूते पर हमें कोरोना के खिलाफ इस लडाई को जीतना है। संकट की इस घडी में काशी सबका मार्गदर्शन कर सकती है। आज लॉकडाउन की परिस्थिति में काशी देश को सीखा सकती है संयम, समन्‍वय और संवेदनशीलता।

पीएम मोदी ने अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल में आज सुबह एक गुरुद्वारे पर हुए आतंकी हमले में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति सम्‍वेदना भी व्‍यक्‍त की। वीडियों कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत में पीएम मोदी ने लोगों के सवालों के जवाब भी दिये।

Related posts

Leave a Reply