पांचवां वनडे: टॉस जीत कर वेस्टइंडीज का पहले बल्लेबाजी का फैसला

भारत और वेस्टइंडीज के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का पांचवां मुक़ाबला आज तिरूवनंतपुरम में खेला जा रहा है। टॉस जीत कर वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया है। भारत 2015 से घरेलू मैदान पर अपने जीत के सिलसिले को इस सीरीज़ में बरक़रार रखना चाहेगा तो वहीं वेस्टइंडीज अपने लिए भाग्यशाली रहे इस मैदान पर सीरीज़ बराबरी करने का प्रय़ास करेगी।

भारत और वेस्टइंडीज के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का पांचवां निर्णायक मैच आज केरल के तिरूवनंतपुरम में खेला जा रहा है। मुंबई वनडे में बड़ी जीत हासिल कर सीरीज में 2-1 से अपराजेय बढ़त हासिल कर चुका भारत घर पर एक और सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगा। इस मैदान में तकरीबन तीन दशक पहले पिछली अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच की मेजबानी की गई थी और उस समय वेस्टइंडीज की टीम काफी मजबूत मानी जाती थी। तब भी भारत और वेस्टइंडीज के बीच ही मुकाबला हुआ था। उस मैच में वेस्टइंडीज ने आसान जीत दर्ज की थी।

ऐसे में जेसन होल्डर की टीम उस दौर की दिग्गज टीम से प्रेरणा लेकर श्रृंखला बराबर करना चाहेगी। भारत ने पिछली बार घरेलू वनडे श्रृंखला 2015 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ गंवाई थी और तब से स्वदेश में उसका अजेय अभियान जारी है। मौसम विभाग ने गुरुवार को वेस्टइंडीज-भारत के बीच खेले जाने वाले मैच पर बारिश के बाधा डालने की संभावना व्यक्त की है। मैच के दौरान बारिश की भविष्यवाणी की गई है। इंग्लैंड में अगले साल जून में होने वाले आईसीसी विश्व कप को देखते हुए दोनों टीमें इस श्रृंखला के जरिए अपना टीम संयोजन तय करने की कोशिश में जुटे हैं।

टीम इंडिया की बात करें तो कप्तान विराट कोहली और उप-कप्तान रोहित शर्मा बेहतरीन फार्म में हैं और श्रृंखला में तीन और दो शतक जड़ चुके हैं। कप्तान का समर्थन हासिल करने वाले अंबाती रायुडू ने भी पिछले मैच में शतकीय पारी खेली थी। बाकी बल्लेबाज हालांकि उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठा पाए हैं जबकि अनुभवी महेंद्र सिंह धोनी को भी बल्ले से खराब फॉर्म का सामना करना पड़ रहा है।

वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 श्रृंखला के लिए घोषित भारतीय टीम में जगह गंवाने वाले धोनी को बल्ले से भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी जबकि विकेट के पीछे वह शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। जसप्रीत बुमराह की वापसी से भारत का गेंदबाजी आक्रमण मजबूत हुआ है और पिछले दोनों मैचों में उन्होंने अपनी उपयोगिता साबित की है। बायें हाथ के युवा तेज गेंदबाज खलील अहमद ने ब्रेबोर्न स्टेडियम में शानदार गेंदबाजी की। कोहली को भुवनेश्वर कुमार से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद होगी जो अब तक उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए हैं।

Related posts