भारत और पाकिस्‍तान करतारपुर गलियारे का कार्य शीघ्र पूरा करने पर सहमत

करतारपुर गलियारे से होकर श्रद्धा‍लुओं के पाकिस्‍तान स्थित गुरूद्वारा करतारपुर साहिब आने-जाने के तौर-तरीकों और मसौदा समझौते पर आज अटारी में दोनों देशों के बीच पहली वार्ता हुई। भारत और पाकिस्‍तान ने प्रस्‍तावित समझौते के विभिन्‍न पहलुओं और प्रावधानों पर विस्‍तृत तथा रचनात्‍मक बातचीत की।

भारतीय प्रतिनिधि मंडल ने श्रद्धालुओं को वीजा के बिना दाखिले का सुझाव दिया और साथ ही उन्‍होंने गुरूद्वारा करतारपुर साहिब तक पैदल जाने की इजाजत देने की मांग भी की। दोनों पक्षों के तकनीकी विशेषज्ञों में भी प्रस्‍तावित गलियारे के रेखांकन को लेकर विस्‍तृत चर्चा हुई। भारत-करतारपुर गलियारे का कार्य दो पड़ाव में सम्‍पन्न करेगा। पहले पड़ाव में 140 करोड़ रूपये की लागत से विशेष डिजाइन वाला ट्रमीनल बनाया जाएगा। जहां से श्रद्धालु अपनी यात्रा शुरू करेंगे। भारत पहले चरण का कार्य 19 सितंबर तक पूरा कर लेगा।

पाकिस्‍तान स्थित पवित्र गुरूद्वारा करतारपुर साहिब में आसानी से आने जाने के लिए श्रद्धालुओं की मांग पूरी करने का प्रयास किया जा रहा है। एक यात्री विश्राम भवन का निर्माण किया जायेगा जो भारतीय सांस्‍कृतिक मूल्‍यों पर आधारित पर्यावरण अनुकूल इमारत होगी। इसमें भित्तिचित्र और अन्‍य चित्र प्रदर्शित किये जाएंगे। परिसर का डिजाइन खंडा प्रतीक से प्रेरित है जो एकता और मानवता के महत्‍व को दर्शाता है। सूत्रों का कहना है कि इस वर्ष नवम्‍बर में ये भवन बनकर तैयार हो जाएगा।

Related posts

Leave a Comment