भारत ने LAC पर चीनी सैनिकों का मुकाबला करने के लिए सशस्‍त्र बलों की तैनाती की है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत अपने सीमा क्षेत्रों के मौजूदा मसलों को बातचीत और विचार विमर्श के साथ शांतिपूर्ण ढंग से हल करने के लिए प्रतिबद्ध है। राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन लद्दाख में लगभग 38 हजार वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र पर लगातार गैर-कानूनी कब्जा बनाए हुए है। उन्होंने कहा कि तथा कथित चीन-पाकिस्तान सीमा समझौते, 1963 के अंतर्गत पाकिस्तान ने गैर-कानूनी तरीके से पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्मीर का पांच हजार एक सौ अस्सी वर्ग किलोमीटर क्षेत्र चीन को सौंप दिया है। रक्षा मंत्री ने कहा कि पहले भी चीन के साथ सीमा क्षेत्र पर टकराव की स्थितियां बनी थीं, जिसे शांतिपूर्ण ढंग से हल कर लिया गया था। उन्होंने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के सैनिकों द्वारा किया गया उग्रतापूर्ण व्यवहार पिछले सभी समझौतों का उल्लंघन है। राजनाथ सिंह ने कहा कि हालांकि चीन ने बड़ी संख्या में अपने सैनिकों और हथियारों को वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात किया है, परंतु, भारतीय सेना सीमा पर उत्पन्न हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

इस वर्ष हाल की घटनाओं में चाइनीज फोर्सेज़ का वॉयलेंट कन्‍डक्‍ट, सभी म्‍यूच्युअली ऐग्रीड नॉर्म्स का पूरी तरह से उल्‍लंघन है। अभी की स्थिति के अनुसार चायनीज साइट ने एलएसी और अंदरूनी क्षेत्रों में बड़ी संख्‍या में सैनिक टुकड़ि‍यां और गोलाबारूद मोबिलाइज किया हुआ है। चीन की कार्रवाई के जवाब में हमारी आर्म्स फोर्सेज़ ने भी इन क्षेत्रों में उपयुक्‍त काउंटर डिप्लॉयमेंट किए हैं, ताकि भारत के सिक्‍योरिटी इंटरस्‍ट को पूरी तरह से सुरक्षित रखा जा सके। सदन को आश्‍वस्‍त रहना चाहिए कि हमारी आर्म्‍ड फोर्सेज इस चुनौती का सफलतापूर्वक सामना करेंगी।

कांग्रेस के सदस्यों ने इस मुद्दे पर चर्चा की मांग को लेकर सदन से वाकआउट किया।

Related posts

Leave a Comment