लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 95 सीटों पर सामान्‍य से भारी मतदान

Massive voting in 95 seats in the second phase of Lok Sabha elections

लोकसभा के दूसरे चरण के चुनाव में आज सामान्‍य और सामान्‍य से अधिक मतदान दर्ज किया गया। औसतन 66 प्रतिशत मतदान होने की खबर है। वरिष्‍ठ निर्वाचन उपायुक्‍त उमेश सिन्‍हा ने आज शाम नई दिल्‍ली में बताया कि 11 राज्‍यों और एक केन्‍द्र शासित प्रदेश में 95 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान शांतिपूर्ण रहा। उन्‍होंने कहा कि पुद्दुचेरी में सबसे अधिक 78 प्रतिशत मतदान हुआ। उसके बाद पश्चिम बंगाल का नंबर रहा जहां लगभग 76 प्रतिशत लोगों ने वोट डाले। मणिपुर में लगभग 74 प्रतिशत, असम में 73, तमिलनाड़ु में 72, छत्‍तीसगढ़ में 71, महाराष्‍ट्र और उत्‍तर प्रदेश में 62-62, जम्‍मू कश्‍मीर में 43, कर्नाटक में 62 और बिहार में 63 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

ओडिसा में लोकसभा और विधानसभा दोनो ही चुनाओं में 64 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

तमिलनाडु में कुछ छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्वक संपन्‍न हो गया। 39 में से 38 लोकसभा सीटों के साथ ही 18 विधानसभा सीटों के उप-चुनाव के लिए भी वोटडाले गए।

कर्नाटक में दूसरे चरण में लोकसभा चुनाव की 14 सीटों के लिए मतदान शांतिपूर्ण रहा। इलेक्‍ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों में खराबी और मतदाता सूचियों में मतदाताओं के नाम न होने की कुछ खबरें सामने आईं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्‍तरी कर्नाटक के बागलकोट और चिक्‍कोडी में चुनाव रैलियों को संबोधित किया।

इस चरण में बीजेपी, कांग्रेस और जेडीएस ने प्रखर चुनाव अभियान छेड़ा था। आने वाले चुनाव परिणाम पर सबकी नजर टिकी हुई है। कांग्रेस-जेडीएस गठबंधनपर चुनाव के नतीजे का असर, हासन से तुमकुर गए देवगौडा जी के निर्णय का असर, चुनाव अखाड़ेमें देवगौड़ा के पोतों के आने का असर, बेंगलुरुदक्षिण में अनंत कुमार के न होने का असर और सर्वप्रथम गठबंधन सरकार पर नतीजे का असरचर्चा का विषय बना हुआ है। लोगों की दिलचस्प इस पर भी है कि क्‍या सदानंद गौड़ा, वीरप्पामोइली और के.एच. मुनियप्पा अपने क्षेत्र बचा पाएंगे।

महाराष्‍ट्र में दस लोकसभा सीटों के लिए आज शाम पांच बजे तक 57 प्रति शत से अधिक मतदान दर्ज किया गया। मराठवाड़ा क्षेत्र के नांदेड़ में सबसे अधिक 61 प्रतिशत और सोलापुर में सबसे कम 52 प्रतिशत वोट पड़े।

बिहार में कुछ छिटपुट घटनाओं को छोड़कर लोकसभा की पांच सीटों के लिए आज मतदान शांतिपूर्ण रहा । लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के तहत इन सीटों पर करीब 63 प्रतिशत मतदान हुआ। मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी एच आर श्रीनिवास ने संवाददाताओं को बताया कि 2014 के आम चुनाव की तुलना में इस बार दशमलव छह प्रतिशत अधिक मतदान हुआ है।

छत्‍तीसगढ़ के माओवादी प्रभावित क्षेत्र कांकेर, महासमुंद और राजनांदगांव लोकसभा सीटों के लिए मतदान कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा।

छत्तीसगढ़ के तीन संसदीय क्षेत्रों कांकेर, महासमुंद और राजनांदगांव में आज मतदान करने में लोगों ने भारी उत्साह दिखाया। राजनांदगांव जिले के मोहला-मानपुर और गरियाबंद के बिंद्राणावगढ़ जैसे माओवाद प्रभावित इलाकों के मतदान केन्‍द्रों में भी लोगों की लंबी-लंबी कतारें देखी गईं। बुजुर्गों, दिव्यांगों और महिलाओं के साथ-साथ पहली बार वोट डालने वाले युवाओं में मतदान को लेकर आज खासा उत्‍साह देखने को मिला। कबीरधाम जिले के ग्राम पोड़ी में 105 साल कीमहिला रामकुंवर बाई ने तो वहीं राजनांदगांव जिले के मानपुर-मोहला में 100 साल की जमुनाबाई ने आज पोलिंग बूथ पहुंचकर मतदान किया। शादियों के इस मौसम में ऐसे भी दृश्‍य देखनेको मिले, जहां दूल्हा और दुल्हन पूरी बारात सहित वोट डालने पहुंचे।

Related posts