हिमालयी क्षेत्र में यातायात और सामरिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाएँ शुरू की जा रही: नितिन गडकरी

हिमालयी क्षेत्र में यातायात और सामरिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाएँ शुरू की जा रही हैं। हिमालयी क्षेत्र में राष्ट्रीय राजमार्गों पर कोई भी विकास कार्य शुरू करने से पहले इलाके की भू-वैज्ञानिक, भू-तकनीकी, जल विज्ञान और स्थलाकृतिक स्थितियों का मूल्यांकन करने के बाद विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार की गई है।

चारधाम परियोजना में चारधाम को जोड़ने वाले 5 मौजूदा राष्ट्रीय राजमार्गों (एनएच) का सुधार शामिल है। यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ सहित कैलास-मानसरोवर यात्रा का टनकपुर से पिथौरागढ़ खंड, कुल मिलाकर लगभग 825 किमी की लंबाई है। 825 किमी में से 606 किमी का काम पूरा हो चुका है।

भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों के तहत, एमओईएफ और सीसी ने अगस्त 2019 में एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति का गठन किया है, जिसमें भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला, भारतीय वन्यजीव संस्थान, वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी, सेंट्रल मृदा संरक्षण अनुसंधान संस्थान, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान, वन अनुसंधान संस्थान आदि जैसे विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों के प्रतिनिधि शामिल हैं, को संपूर्ण हिमालय घाटियों पर चारधाम परियोजनाओं के संचयी और स्वतंत्र प्रभाव पर विचार करने और पर्यावरणीय प्रभावों के संबंध में निर्देश देने का अधिकार है। इसके अलावा, माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने उपरोक्त एचपीसी की रिपोर्ट में दी गई सिफारिशों, विशेष रूप से रणनीतिक सड़कों जैसे, ऋषिकेश-माना, ऋषिकेश-गंगोत्री और टनकपुर-पिथौरागढ़ के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए एक “निगरानी समिति” का भी गठन किया है। समितियाँ नियमित आधार पर बैठक करती हैं और कार्यों के निष्पादन के दौरान उनकी सिफारिशों को लागू किया जाता है।

यह जानकारी केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने आज राज्यसभा को एक लिखित उत्तर में दी।