Nirbhaya Case: केंद्र की याचिका पर दिल्ली उच्च न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा

निर्भया मामले के चारों दोषियों की फांसी की सजा पर रोक लगाने के फैसले को चुनौती देने वाली केन्द्र की याचिका पर दिल्ली उच्च-न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा है। न्‍यायमूर्ति सुरेश कैत ने कहा कि न्‍यायालय सभी पक्षों के दलीलें सुनने के बाद अपना आदेश देगा। केन्‍द्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्‍यायालय को बताया कि सजायाफ्ता दोषियों की ओर से सुनियोजित तरीके से जानबूझकर न्‍याय का रास्‍ता रोकने और फांसी की सजा में देरी के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। तुषार मेहता ने कहा कि चारों को अब बिल्‍कुल समय नहीं दिया जाना चाहिए। चारों की दलील है कि एक ही आदेश से उनको मौत की सजा सुनाई गई है इसलिए उन्‍हें अलग-अलग फांसी नहीं दी जानी चाहिए।

Related posts

Leave a Reply