शनिवार, फ़रवरी 27
Shadow

राष्ट्रपति ने कर्नाटक हाई कोर्ट में चार अतिरिक्त न्यायाधीशों को न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किया

राष्ट्रपति ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 217 के खंड (आई) द्वारा प्रदत्त शक्ति के तहत, कर्नाटक हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश, एस / न्यायमूर्ति सिंगापुरम राघवचर एफ गिश्ना कुमार, अशोक सुभाष चंद्रा किनगी, सूरज गोविंदराज और सचिन शंकर मगदुम को कर्नाटक हाई कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया। ये नियुक्तियां संबंधित कार्यालयों का प्रभार ग्रहण करने की तिथि से प्रभावी होंगी। इस संबंध में विधि और न्याय मंत्रालय, भारत सरकार के न्याय विभाग द्वारा आज अधिसूचना जारी की गई है।

न्यायमूर्ति सिंगापुरम राघवचर कृष्ण कुमार, बी ए, एलएलबी को 29 अगस्त, 1992 को अधिवक्ता के रूप में पंजीकृत किया गया था। तब से वे कर्नाटक हाई कोर्ट और अधीनस्थ न्यायालयों, बेंगलुरु में सिविल, संवैधानिक, वैवाहिक, कंपनी, उपभोक्ता विवाद और मध्यस्थता मामलों में वकालत करते रहे हैं। उन्हें 23 सितम्बर, 2019 को दो साल की अवधि के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में उनका कार्यकाल 22 सितम्बर, 2021 को समाप्त होगा।

न्यायमूर्ति अशोक सुभाष चंद्रा किनगी, बीएससी, एलएलबी, को 02 जून, 1995 को अधिवक्ता के रूप में पंजीकृत किया गया था। कर्नाटक हाई कोर्ट में उन्होंने सिविल, श्रम, सेवा और संवैधानिक मामलों में अधिवक्ता के रूप में कार्य किया है। उन्होंने 2008-2012 के दौरान केंद्र सरकार के अधिवक्ता के रूप में कार्य किया था। उन्होंने जुलाई 1997 से मार्च 2006 तक लॉ कॉलेज में व्याख्याता के रूप में भी काम किया। उन्हें 23 सितम्बर, 2019 को दो साल की अवधि के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में उनका कार्यकाल 22 सितम्बर, 2021 को समाप्त होगा।

न्यायमूर्ति गोविंदराज सूरज, बी.ए., एल.एल.बी, को 23 जून, 1995 को अधिवक्ता के रूप में पंजीकृत किया गया था। उन्होंने कर्नाटक हाई कोर्ट, विभिन्न उच्च न्यायालयों, सर्वोच्च न्यायालय और विभिन्न न्यायाधिकरणों में सिविल, संवैधानिक, कंपनी और मध्यस्थता मामलों में अधिवक्ता के रूप में कार्य किया है। उन्हें 23 सितम्बर, 2019 को दो साल की अवधि के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में उनका कार्यकाल 22 सितम्बर, 2021 को समाप्त होगा।

न्यायमूर्ति सचिन शंकर मगदुम, बीएससी, एलएलबी ने कर्नाटक हाई कोर्ट, बैंगलोर तथा धारवाड़ पीठ में सिविल, आपराधिक, संवैधानिक, सेवा और वैवाहिक मामलों में वकालत की है। उन्हें 23 सितम्बर, 2019 को दो साल की अवधि के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में उनका कार्यकाल 22 सितम्बर, 2021 को समाप्त होगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Enable Notifications    OK No thanks