दैनिक जागरण की 75वीं वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री का संबोधन

Prime Minister's address on the 75th anniversary of Dainik Jagran

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने हिन्‍दी समाचार पत्र दैनिक जागरण की 75वीं वर्षगांठ पर आज नयी दिल्‍ली में जागरण फोरम को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर सामचार पत्र से जुड़े लोगों के साथ, विशेष रूप से अखबार बांटने वाले हॉकरों को बधाई दी और कहा कि यह हॉकर ही हैं जिनके माध्‍यम से अखबार रोजाना लोगों के घरों तक पहुंच रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दैनिक जागरण ने लोगों को जागरुक बनाने और राष्‍ट्र के निर्माण में अहम भूमिका निभाई है। उन्‍होंने कहा कि वह अपने निजी अनुभव से के आधार पर कह रहे हैं कि इस अखबार ने देश और समाज में बदलाव की प्रक्रिया को सशक्‍त बनाया है। इस संदर्भ में प्रधानमंत्री ने विशेष रूप से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और स्‍वच्‍छ भारत अभियान का जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि मीडिया की डिजिटल क्रांति के माध्‍यम से देश को सशक्‍त बनाने में अहम भूमिका होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘न्‍यूनतम सरकार अधिकतम शासन’ और ‘सबका साथ सबका’ विकास न्‍यू इंडिया का आधार है। आज का युवा यह महसूस कर रहा है कि देश की विकास प्रक्रिया में वह भी सहभागी है।

श्री मोदी ने सवाल किया कि आजादी के कई दशक बीत जाने के बाद भी आज आखिर देश पिछड़ा क्‍यों रह गया। क्‍यों लोगों की समस्‍या का समाधान नहीं हो पाया। उन्‍होंने कहा कि अब बिजली उन दूर दराज के क्षेत्रों तक पहुंच रही है जहां पिछले 70 सालों में नहीं पहुंच पाई थी। जो क्षेत्र रेलवे के नक्‍शे में नहीं थे वहां आज रेल संपर्क सेवाएं पहुंच चकी हैं।

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर पिछली सरकार और मौजूदा सरकार की तुलना करते हुए कई बातें गिनाईं और कहा कि पिछले 67 वर्षों के शासन की तुलना उनके चार वर्ष के शासन से की जानी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि‍ देश में उनके शासनकाल में ग्रामीण घरों में शौचालयों की संख्‍या 38 प्रतिशत से बढ़कर 95 प्रतिशत हो चुकी है, सड़क संपर्क 55 फीसद से बढ़कर 90 फीसद पर पहुंच गया है, घरों में रसोई गैस कनेक्‍शन 55 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत हो चुका है, पहले जहां केवल 50 प्रतिशत लोगों के पास बैंक खाते थे वहीं अब करीब करीब सबको बैंक सुविधाएं मिल चुकी हैं,पहले जहां केवल चार करोड़ लोग आयकर रिटर्न भरते थे वहीं अब इसमें तीन करोड़ लोग और जुड़ चुके हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब सारी स्थितियां पहले जैसी ही है तो यह बदलाव अब कैसे आया है। उन्‍होंने कहा कि एक बार जब गरीबों और वंचितों को मूलभूत सुविधाएं मिलने लगेंगी तब वे खुद ही गरीबी से बाहर आ जाएंगे। उन्‍होंने कहा कि पिछले चार वर्षों ने बड़े बदलाव देखे हैं। आंकड़ें इसका प्रमाण है।

  श्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार जन आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि भारत में जिस तरह से प्रौद्योगिकी का इस्‍तेमाल हो रहा है वह विकासशील देशों के लिए उदाहरण बन रहा है। प्रौद्योगिकी  और मानवीय संवदेनाएं मिलकर जीवन को और सुगम बना रही है। उन्‍होंने इस अवसर पर देश में हवाई और जलमार्ग सेवाओं में हुए बड़े बदलाव के साथ ही रसोई गैस सिलेंडरों की रिफिलिंग का समय घटने, आयकर रिफंड का इंतजार कम होने तथा पासपोर्ट सेवाओं में सुधार आदि का भी जिक्र किया। श्री मोदी ने कहा कि सरकार खुद उन लोगों तक पहुंच रही है जो पीएम आवास योजना, उज्‍ज्‍वला और सौभाग्‍य जैसी योजनाओं का लाभ लेना चाहते हैं। उन्‍होंने कहा कि इन योजनाओं के लाभार्थियों में मजदूर, श्रमिक और किसान शामिल हैं। गरीबों को सशक्‍त बनाने वाली यह योजनाएं आगे भी जारी रखी जाएंगी। दुनिया भारत की इस तरक्‍की को देख रही है। भारत ने भगोड़े आर्थिक अपराधियों को कहीं भी पनाह नहीं मिल सके यह सुनिश्चित करने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय समुदाय के समक्ष कुछ अहम प्रस्‍ताव भी रखे हैं।            

Related posts