सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन बैंक ने कोविड-19 महामारी को देखते हुए स्‍वयं सहायता समूहों को अतिरिक्‍त निधि-सहायता उपलब्‍ध कराने की घोषणा की

सार्वजनिक क्षेत्र के इंडियन बैंक ने कोविड-19 महामारी को देखते हुए सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्यम से संबंधित बड़ी कंपनियों, खुदरा ग्राहकों, पेंशन धारकों और स्‍वयं सहायता समूहों को अतिरिक्‍त निधि-सहायता उपलब्‍ध कराने की घोषणा की है। बैंक ने कहा कि इंड-कोविड आपात क्रेडिट लाइन के अंतर्गत फंड आधारित और गैर-फंड आधारित कार्यशील पूंजी की 10 प्रतिशत तक धनराशि अतिरिक्‍त निधि के रूप में उपलब्‍ध कराई जाएगी और इसकी अधिकतम सीमा 100 करोड़ रुपए होगी।

इंडियन बैंक वैतनिक कर्मचारियों को तात्‍कालिक चिकित्‍सा और अन्‍य जरूरी खर्च पूरा करने के लिए उनके मौजूदा कुल मासिक वेतन की 20 गुना धनराशि तक ऋण भी उपलब्‍ध करा रहा है। इसकी अधिकतम सीमा दो लाख रुपए रखी गई है।

सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्यम ग्राहकों के लिए इंडियन बैंक फंड आधारित कार्यशील पूंजी की 10 प्रतिशत राशि अतिरिक्‍त निधि के तौर पर उपलब्‍ध करा रहा है। पिछले सप्‍ताह भारतीय स्‍टेट बैंक ने अपने ऋणग्राहियों के लिए नकदी की समस्‍या से निपटने के वास्‍ते आपात ऋण योजना की घोषणा की थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *