सुप्रीम कोर्ट ने 1997 के उपहार सिनेमा अग्निकांड मामले में पीडितों के एक संघ द्वारा दायर क्यूरेटिव पिटीशन खारिज की

Supreme Court

सुप्रीम कोर्ट ने 1997 के उपहार सिनेमा अग्निकांड मामले में पीडितों के एक संघ द्वारा दायर क्यूरेटिव पिटीशन खारिज कर दी है। इससे दोषी अंसल बंधुओं की जेल की सजा आगे नहीं बढ़ेगी। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एन वी रमना और न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की पीठ ने याचिका को खारिज करते हुए कहा कि इस याचिका में कोई मामला नहीं बनता है।

9 फरवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने 2 एक के बहुमत के फैसले से बड़ी उम्र संबंधी जटिलताओं को देखते हुए 78 वर्षीय सुशील अंसल को राहत दी थी और उसे उतनी ही अवधि की जेल की सजा दी जितनी अवधि वह जेल में पहले ही गुजार चुका था।

हालाँकि, सुप्रीम कोर्ट ने उसके छोटे भाई गोपाल अंसल को इस मामले में शेष एक वर्ष की अवधि की जेल की सजा काटने को कहा था।

Related posts

Leave a Reply