रानी लक्ष्मीबाई की जयंती 

1857 के संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली, रानी लक्ष्मीबाई की विश्वसनीय सलाहकारों में से एक झलकारी बाई को सादर नमन।

रानी लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी में 19 नवम्बर 1828 को हुआ था।

उनका बचपन का नाम मणिकर्णिका था लेकिन प्यार से उन्हें मनु कहा जाता था।

उनकी माँ का नाम भागीरथीबाई और पिता का नाम मोरोपंत तांबे था।

सन् 1842 में उनका विवाह झाँसी के मराठा शासित राजा गंगाधर राव नेवालकर के साथ हुआ और वे झाँसी की रानी बनीं।

झाँसी 1857 के संग्राम का एक प्रमुख केन्द्र बन गया जहाँ हिंसा भड़क उठी। दो हफ़्तों की लड़ाई के बाद ब्रितानी सेना ने शहर पर क़ब्ज़ा कर लिया। 

तात्या टोपे और रानी की संयुक्त सेनाओं ने ग्वालियर के विद्रोही सैनिकों की मदद से ग्वालियर के एक क़िले पर क़ब्ज़ा कर लिया।

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी॥