भारत और श्रीलंका की नौसेना का साझा नौसैनिक युद्ध अभ्यास ‘स्लीनेक्स-20’ त्रिंकोमाली में

भारतीय नौसेना (आईएन) और श्रीलंका की नौसेना (एसएलएन) का संयुक्त वार्षिक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास ‘स्लीनेक्स-20’ का आठवां संस्करण 19 से 21 अक्टूबर 2020 तक त्रिंकोमाली श्रीलंका के तट पर आयोजित किया गया है। श्रीलंका की नौसेना का प्रतिनिधित्व वहां के नौसैनिक जहाज़ सायुरा (समुद्री गश्ती पोत) और गजाबहू (प्रशिक्षण जहाज़) द्वारा किया जाएगा, जिसका नेतृत्व श्रीलंकाई नौसेना के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग नेवल फ्लीट रियर एडमिरल बंडारा जयतिलका करेंगे। वहीं भारतीय नौसेना का प्रतिनिधित्व स्वदेश में निर्मित पनडुब्बी रोधी युद्धपोत कमोर्टा और किल्टन करेंगे, जो कि फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग ईस्टर्न फ्लीट…

Read More

सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का भारतीय नौसेना के स्टील्थ डेस्ट्रॉयर, INS चेन्नई से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया

Supersonic cruise missile BrahMos successfully tested from the Indian Navy's Stealth Destroyer, INS Chennai

सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का आज अरब सागर में एक लक्ष्य को भेदते हुए भारतीय नौसेना के स्वदेशी तरीके से निर्मित स्टील्थ डेस्ट्रॉयर, आईएनएस चेन्नई से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। मिसाइल ने उच्च-स्तरीय एवं अत्यधिक जटिल युक्तियों का प्रदर्शन करने के बाद सुनिदेशित सटीकता के साथ सफलतापूर्वक लक्ष्य को भेदा। एक “प्रमुख मारक अस्त्र” के रूप मे ब्रह्मोस मे लंबी दूरी पर स्थित नौसेना के सतह के लक्ष्यों को पूरा करने के द्वारा युद्धपोत की अजेयता सुनिश्चित करेगा और इस प्रकार डेस्ट्रॉयर को भारतीय नौसेना का एक और घातक प्लेटफार्म…

Read More

परियोजना 17ए श्रेणी के रेडार से बच निकलने वाले तीसरे युद्धपोत के लिए जहाज का पेंदा लगाया गया

भारतीय नौसेना के सीओएम और सीडब्‍ल्‍यूपी और ए वाइस एडमिरल एस.आर. सरमा और अतिरिक्‍त सचिव (रक्षा उत्‍पादन) वी.एल. कांता राव ने 10 सितंबर, 2020 को प्रतिष्ठित पी 17ए श्रेणी के रेडार से बच निकलने वाले तीसरे युद्धपोत (यार्ड- 12653) के लिए जहाज का पेंदा लगाया। वाइस एडमिरल आर.बी. पंडित, चीफ ऑफ स्टाफ, एचक्यूडब्ल्यूएनसी और वाइस एडमिरल नारायण प्रसाद (सेवानिवृत्त) – सीएमडी एमडीएल की उपस्थिति में ई-प्लेटफॉर्म के माध्यम से समारोह आयोजित किया गया। पी 17ए श्रृंखला के तहत सात युद्धपोतों का निर्माण किया जाएगा जिनमें से चार का निर्माण एमडीएल…

Read More

भारत और रूस के बीच द्विवार्षिक संयुक्त नौसैनिक अभ्यास “इन्द्र नेवी” बंगाल की खाड़ी में 4 से 5 सितंबर तक चलेगा

भारत और रूस के बीच ग्यारहवीं बार आयोजित हो रहा द्विवार्षिक संयुक्त नौसैनिक अभ्यास “इन्द्र नेवी” बंगाल की खाड़ी में 04 से 05 सितंबर 2020 तक चलेगा। इस संयुक्त नौसैनिक अभ्यास की शुरुआत 2003 में हुई थी। इसने दोनों देशों की नौसेनाओं के बीच दीर्घकालिक रणनीतिक संबंधों को प्रमाणित किया है। यह नौसेनिक अभ्यास बंगाल की खाड़ी में ऐसे समय आयोजित किया जा रहा है जब द्विपक्षीय सहयोग और परस्पर हितों पर चर्चा करने तथा द्वितीय विश्व युद्ध में मिली जीत की 75वीं वर्षगांठ मनाए जाने के लिए रक्षा मंत्री…

Read More

DAC ने 8,722.38 करोड़ रुपये के खरीद प्रस्तावों को मंजूरी दी, IAF के लिए 106 बेसिक प्रशिक्षक विमान भी शामिल

‘आत्म-निर्भर भारत’ पहल को आगे बढ़ाने के लिए स्वदेशी क्षमता पर भरोसा जताते हुए सशस्त्र बलों को मजबूत करने हेतु आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में आयोजित अपनी बैठक में रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) ने भारतीय सशस्त्र बलों के लिए आवश्यक विभिन्न प्लेटफार्मों और उपकरणों के पूंजी अधिग्रहण के लिए मंजूरी दे दी है। इस बैठक में 8,722.38 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत के प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने बेसिक प्रशिक्षक विमान (एचटीटी-40) प्रोटोटाइप को सफलतापूर्वक विकसित कर लिया है और अब यह…

Read More

भारतीय नौसेना ने ऑपरेशन समुद्र सेतु के अगले चरण की शुरुआत की

भारतीय नागरिकों को विदेशों से वापस लाने के लिए ऑपरेशन “समुद्र सेतु” के अगले चरण की शुरुआत 01 जून 2020 से होगी। इस चरण में, भारतीय नौसेना का जहाज ‘जलाश्व’ कोलंबो, श्रीलंका से 700 कर्मियों को वापस तूतीकोरिन, तमिलनाडु पहुंचाएगा और बाद में माले, मालदीव से तूतीकोरिन, तमिलनाडु के लिए अन्य 700 कर्मियों को स्वदेश भेजा जाएगा। भारतीय नौसेना अपने पिछले चरण के अभियानों के दौरान, माले से कोच्चि तक 1,488 भारतीय नागरिकों को स्वदेश भेज चुकी है। श्रीलंका और मालदीव में भारतीय मिशन, भारतीय नागरिकों को सुरक्षित निकालने की…

Read More

ऑपरेशन समुद्र सेतु: INS जलाश्व 588 भारतीय नागरिकों के साथ माले से रवाना

भारतीय नौसेना का जहाज INS जलाश्व ने 15 मई, 2020 को मालदीव की राजधानी माले के बंदरगाह पर ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत 588 भारतीय नागरिकों को जहाज पर चढ़ाने का काम पूरा कर लिया। ऑपरेशन समुद्र सेतु विदेश की धरती से अपने नागरिकों को समुद्र के जरिए स्वदेश लाने की भारत की राष्ट्रीय कोशिश में भारतीय नौसेना का एक अहम योगदान है। इन 588 लोगों में से 6 गर्भवती महिलाएं और 21 बच्चे हैं। माले में बारिश और 30 से 40 नॉट की तेज गति से बह रही हवाओं…

Read More

INS केसरी, मिशन सागर के तहत मालदीव 580 टन खाद्य सामग्री लेकर माले पहुंचा

Maldives reached Male with 580 tonnes of food items under INS Kesari, Mission Sagar

भारतीय नौसैनिक जहाज INS केसरी, मिशन सागर पहल के तहत पडोसी देश मालदीव के लिए 580 टन खाद्य सामग्री सहायता लेकर आज सुबह माले बंदरगाह पहुंचा। खाद्य सामग्री में दो सौ टन चावल, 140 टन आटा और 80 टन चीनी शामिल हैं। माले स्थित भारतीय उच्‍चायोग ने बताया कि भारत के लोगों द्वारा रमजान के पवित्र महीने में दी गई खाद्य सहायता मालदीव के लोगों के साथ मित्रता का प्रतीक है। हमारे संवाददाता ने बताया है कि मालदीव को यह सहायता बीस अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और मालदीव के…

Read More

ऑपरेशन समुद्र सेतु आईएनएस मगर भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए माले पहुंचा

Operation Samudra Setu buts reached Male to bring back Indian citizens

PIB नई दिल्ली: भारतीय नौसेना के ऑपरेशन समुद्र सेतु का दूसरा पोत आईएनएस मगर मालदीव में फंसे भारतीय नागरिकों को निकालने तथा उन्‍हें सहज और सुरक्षित रूप से भारत वापस लाने के लिए 10 मई 2020 को सुबह माले बंदरगाह पहुंच गया। आईएनएस मगर एक एलएसटी(एल) है, जिसे लैंडिंग ऑपरेशनों के लिए डिजाइन किया गया है। मालदीव रवाना होने से पहले इस पोत ने कोच्चि बंदरगाह में अपने बेस पर नागरिकों को सुविधाजनक रूप से रखने के लिए सभी तरह की आवश्‍यक लॉजिस्टिक, मेडिकल और प्रशासनिक तैयारियां की थीं। यह…

Read More

INS जलाश्‍व माले से 698 भारतीयों को लेकर कोच्चि पहुंचा

कोरोना वायरस महामारी के कारण कई देशों में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने का सिलसिला आज चौथे दिन भी पूरे जोर-शोर से जारी है। वंदे भारत मिशन के अंतर्गत विश्‍व के विभिन्‍न भागों में फंसे भारतीय नागरिकों को विमान और समुद्री मार्ग से स्‍वदेश लाया जा रहा है। इस मिशन के अंतर्गत समुद्र सेतु कार्यक्रम के हिस्‍से के रूप में नौसेना का जहाज आई.एन.एस जलाश्‍व आज सवेरे मालदीव से 698 यात्रियों को लेकर कोच्चि बंदरगाह पहुंचा। यात्रियों के इस समूह में 595 पुरुष और एक सौ तीन महिलाएं हैं।…

Read More